बुधवार, 3 अक्तूबर 2007

आँसू

आँसुओं, तुम क्या हो?

अधखुली-सी
सीपियां पलकों में
मोती जैसे चमकते तुम

खुशियों में
गालों पर रिसते
ग़म में नहीं सँभलते तुम

सिमटे हो
एक बूँद में कभी
कभी सागर बन जाते तुम

काव्य में
किसी की हो प्रेरणा
सुर संगीत बन जाते तुम

आँसुओं!
ऐसे न बिखरो
बेशक बहुत अनमोल तुम

दीपिका जोशी 'संध्या'

1 comments:

मिलिंद / Milind ने कहा…

कविता आवडली. का कोणास ठाऊक, वाचताना ’आनंद’ चित्रपटातील अमिताभ बच्चनच्या तोंडी असलेली "मौत, तू एक कविता है" या कवितेची आठवण झाली. कदाचित तुमच्याही कवितेची सुरुवात त्याच प्रकारच्या परसॉनिफिकेशनने झाल्यामुळे असेल...